कम्बाइन हारवेस्टर और व्हील स्प्रेयर अविष्कार के लिये पुरस्कृत होंगे कृषक राजपाल

Posted on 12 Jul, 2018 7:48 pm

अशोकनगर जिले के पिपरई तहसील के ग्राम जमाखेड़ी गाँव के किसान राजपाल नरवरिया को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् द्वारा ट्रैक्टर चलित कम्बाइन हारवेस्टर एवं व्हील स्प्रेयर मशीन का अविष्कार करने पर जगजीवनराम इनोवेटिव कृषक सम्मान के लिये चुना गया है। राजपाल 12वीं तक शिक्षा प्राप्त लघु श्रेणी कृषक हैं। कृषि में कुछ हटकर नया करने की चाह रखने वाले राजपाल को राष्ट्रीय प्रतिष्ठित सम्मान के लिये चुने जाने पर क्षेत्र के किसानों में राजपाल की नई पहचान बनी है।

राजपाल द्वारा कृषि यंत्र के अविष्कार से गेहूँ की कटाई में खेत में छूट जाने वाली नरवाई जलाने से होने वाले नुकसान को फायदे में तब्दील किया गया है। कम्बाइन हारवेस्टर में कटाई-गहाई विनोविंग और स्ट्रारीपर की सुविधा एक साथ समाहित है। इससे कटाई के साथ भूसा भी तैयार होता है। मशीन का उपयोग एक साथ अथवा अलग-अलग किया जा सकता है। इसके द्वारा कटाई और गहराई करने से गेहूँ के साथ-साथ नरवाई का भूसा बना लिया जाता है। नरवाई नहीं छूटने से नरवाई को जलाने की स्थिति नहीं बनती और नरवाई जलाने से खेत की उर्वरा शक्ति और पर्यावरण को होने वाला नुकसान नहीं होता। राजपाल का अविष्कार किसानों को खूब पसंद आ रहा है।

कृषक राजपाल ने खेतों में दवाई स्प्रे करने के लिये बिना फ्यूल से चलने वाले व्हील स्प्रेयर का अविष्कार किया है। राजपाल की इस नई मशीन से समय और श्रम कम लगता है। खेतों के साथ-साथ बगीचों में भी दवा का छिड़काव आसानी से होता है। किसान राजपाल को राष्ट्रपति भवन में भारत सरकार द्वारा सांत्वना पुरस्कार, राजामाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय द्वारा उत्कृष्ट नवाचार पुरस्कार और राज्योत्सव, प्रतिभा खोज एवं सृजन पुरस्कार पहले मिल चुके हैं।

कृषि के क्षेत्र में नवाचार के लिये पुरस्कृत राजपाल मुख्यमंत्री युवा कृषक उद्यमी के रूप में पहचान स्थापित करना चाहते हैं। इसके लिये वह कृषि के क्षेत्र में व्यवसाय भी स्थापित कर रहे हैं।

सक्सेस स्टोरी (अशोकनगर)

साभार – जनसम्पर्क विभाग मध्यप्रदेश